Apr 25, 2011

खिली-कम-ग़मगीन तबियत (भाग २)

 

पिछली बार जब खिली-कम-गमगीन तबीयत लिखा था तो पोस्ट-कम-सफाई-ज्यादा हो गयी थी। पोस्ट से ज्यादा भूमिका ही बड़ी हो गयी थी। फिर हमें लगा कि जितनी सफाई करो लोगों को उतना ही लगता है कि जरूर कोई बात है, नहीं तो भला सफाई करने की क्या जरूरत? अब लोगों को कैसे समझाया जाय कि बिन गंदगी भी सफाई पसंद लोग हैं दुनिया में Smile । फिर हमने सोचा कि चुपचाप अपनी बात कही जाये। जिसे जो सोचना है सोचे। (वैसे वास्तविकता तो ये है कि किसे फुर्सत है मेरे बारे में सोचने की, लेकिन ये मानव मन भी न !)

तो इस बीच खिली-कम-ग़मगीन-ज्यादा तबीयत का रहना जारी है। अँग्रेजी के cum और हिन्दी के कम से थोड़ा मतलब बदल जाता है। और इसी मतलब को स्पष्ट करने के लिए मैने अंत में 'ज्यादा' जोड़ दिया। खिली-cum-ग़मगीन का मतलब हो गया खिली और ग़मगीन। खिली-कम-ग़मगीन का मतलब हुआ खिली तो थोड़ी कम खिली लेकिन जब ग़मगीन हुई तो थोड़ी ज्यादा ही हो गई।

और इस खिली-कम-ग़मगीन तबीयत के बीच दिमाग ने बहुत वन-लाइनर दो-चार-पाँच-सात लाइनर (जिसे मैं बकवास की श्रेणी में रखता हूँ) जैसी चीजें उड़ेली। उनमें से कुछ फेसबूक पर आती रहीं और कुछ ऐसे ही पड़ी रही। अभी इस पोस्ट को लिखते समय लग रहा है कि जो चीज ऐसे ही पड़ी रहे उसका भी कुछ उपयोग हो ही जाता है कभी-कभी। (अगर बकवास की तरह श्रेणीबद्ध किए गए पोस्ट को उपयोगी माना जाये तो)।

इस बीच मेरे एक पुराने बकवास को मेरे एक मित्र ने अपना स्टेटस बनाया ये लिखकर 'कोपीड फ्रम समवेयर'। मैंने उन्हें तुरत  बताया कि वो 'समवेयर' वाली गली मुझ तक पहुँचती है। अब देखिये न उन्होने मेरा नाम लिखकर मेरा बकवास लिखा होता तो उतनी खुशी नहीं होती जितना 'समवेयर' देखकर हुई। ये मानव मन भी न पता नहीं कब किस बात पर खुश हो जाता है... दुखी  होने के तो खैर कारणों की कोई कमी ही नहीं है।

भूमिका समाप्त। बकवास शुरू।

१ Hope is what makes it all interesting. isn't this journey like climbing a hill? with hope to see a new world and feel the fresh air. Maybe We'll never make it to the top, maybe there is no such peak.. but let keep climbing, let this feeling continue... let this journey continue... forever.

(don't read: I know even if exists, the peak won't be as interesting as we imagine... Journeys are always more interesting)

२ In chaos theory a small change in initial condition makes a large scale change. I don't know how true is the famous example of a butterfly's flapping wings leading to a tornado but I definitely know that:
     a. a single drop of tear in some eyes can turn into an inundation of tears in someone else's eyes.
    b. Spoken words, no matter how insignificant they are can misinform people and can cause great immeasurable harm.

३ Almost a year ago... an astrologer told me that mostly I will do timepass till 2010 and then things will change. I thought it will change for good but I realized that what he meant was timepass bhi chali jaayegi 2010 ke end mein :-P

४ जब भी मैं जगा होता हूँ... मेरी आँखों के सामने या तो कोई स्क्रीन होती है या कोई पेपर. वो कभी-कभी बंद आँखों में जरूर दिख जाती है. मैं सोचता हूँ कि अगर जागती आँखों के सामने भी वो दिखने लगे तो और कुछ हो न हो मेरी आँखों को उम्र और सुकून तो मिलेगा ही. ;)

५ नया मुहावरा आया है मार्केट में: जब तक मुहल्ले की मुर्गी कोई और लेके ना भाग जाए दाल ही लगती है।

६ जब किसी को कोई ऐसी निगाह से देखे जैसे बिल्ली की आँखें कबूतर की ओर देखती हैं तो उसे जान बचाकर भागना चाहिए या उन आँखों में डूब जाना चाहिए? :)

७ वैसे बात तो सही है लेकिन मैं सोच रहा था कि मेरी औकात का अंदाजा टाटा इंडिकॉम वालों ने कैसे लगा लिया: "आप जिस व्यक्ति से संपर्क करना चाहते हैं वो (आपकी) पहुँच के बाहर है" :)

८ Some people say 'I can't unwind my portfolio at this price to take a loss'...

But in reality the losses has already been incurred and by not unwinding they fool only themselves.' Similar is the case of relationships... sometimes its better to accept the reality.

[पता नहीं जिसे समझा रहा था वो समझा या और अधिक उलझ गया :)]

९ घंटो तक किए गए शब्दों के खिलवाड़ से जब कुछ भी ना व्यक्त हो पाये तो जबान नहीं मामला ही लटपटा गया समझो।

१० ‎... I never thought I will ever say 'I'll miss you', and now? even if I miss... I don't need to say this. either way its same but not the same.

११ Assuming only 'straight' lines form a triangle. By basic theorem of inequality of sides a love triangle is not possible ! :) … combined love between any two pairs should be greater than the third pair but given three ‘straight members’... it leads to a Contradiction !

The general form will be like this: To form a convex love polygon the number of members with interconnected relationships should be even.

Note that this holds only for convex polygons which are formed only using ‘Straight’ lines ;)

१२ Humans are magnificent hybrids of cruelty and kindness, love and hatred,... and many more such paradoxical extremes.
And yes the proportion of one extreme with other keeps changing so be careful ! :)

१३ नए फोन के कारण पिछले कुछ दिनों से किताबों को कम समय दे पा रहा हूँ, अगर मेरी किताबों और फोन की जगह दो लड़कियां होती तो उनका आपसी झगड़ा देख कर मजा आ जाता।  :)

१४ एक प्यार ऐसा भी होता है...जिसमें सवाल ये नहीं होता है कि वो हाँ कहेगी या नहीं, सवाल तो यही रह जाता है कि वो पूछ भी पाएगा या नहीं :) और ऐसे प्रेमी सबसे ज्यादा ग़म में डुबते हैं।

१५ What if you get yourself into a state of self-moving uncontrolled motion? What will you do? If you try to bend yourself you may make it worst by turning it into some other weird form, say a rotational twist along with the initial state. So what will you do? or the better question is what 'can' you do?
Sometimes we end up in this kind of situation with no control on ourselves. Can you think of such cases?
what?
...leave it. :)

बहुत हो गया, शेष फिर कभी।

पिछली बार तो यू ने भी पूछ लिया ये 'यू' कौन है। और तब से तो मैंने उसे ‘यू’ कहना ही छोड़ दिया। और वैसे भी इस पोस्ट में वैसी पंक्तियाँ कम ही है। इस बार क्या कहूँ जब ग़ालिब चाचा ही कह गये है: बक रहा हूँ जुनूं में जाने क्या क्या कुछ. कुछ ना समझे ख़ुदा करे कोई. Thinking smile

~Abhishek Ojha~

28 comments:

  1. ये तो नए जमाने के मियाँ मरफ़ी के नियम हैं.
    सहेज कर रख लिया है ताकि वक्त जरूरत पढ़-पढ़ा कर अपनी इनसेनित (कृपया वर्तनी पर जरूरत से ज्यादा ध्यान दें,) थोड़ी मोड़ी ही सही, बचाई रखी जा सके.

    और, शेष बाकी सारा कुछ जल्द से जल्द - आग्रह है.

    ReplyDelete
  2. हर एक में कुछ न कुछ तत्व मिलता है।

    ReplyDelete
  3. ओझा गुरूजी ! ये अंगरेजी वालो का एकबार हिन्दी में अनुवाद करने की कोशीश कर लीजीये, फिर देखीये कैसे अर्थ की अर्थी निकलती है :)

    ReplyDelete
  4. पढकर आनन्द आया। तुम्हारी उम्र में मैं भी डायरी में कुछ पंक्तियाँ लिख लेता था, शीर्षक दिया था "टुकडे"। अब यह ज्ञानगंगा पढकर सोच रहा हूँ कि आचार्य जी से अनुवाद कराके रिलीज़ कर ही दूँ।

    ReplyDelete
  5. [तुम्हारी उम्र में ... और उसके बहुत साल बाद तक भी ...]

    ReplyDelete
  6. लच्छन कुछ ठीक से न दीख रहे हैं जी हमें तो।

    ReplyDelete
  7. बक रहा हूँ जुनूं में जाने क्या क्या कुछ. कुछ ना समझे ख़ुदा करे कोई.

    ReplyDelete
  8. @रविजी: इनसेनियत। हा हा, सही है। बाकी भी आ ही जाएगा :)
    @प्रवीणजी: धन्यवाद।
    @आशीषजी: तभी तो हिन्दी ब्लॉग पर भी अँग्रेजी ठेली गयी है :)
    @दिनेशजी: धन्यवाद।

    ReplyDelete
  9. @राजजी: धन्वयाद।
    @अनुरागजी: अरे वाह, देरी क्या फिर? फटाफट 'टुकड़ों' पर काम चालू किया जाय।
    @संजयजी: इस बीमारी के लक्षण थोड़े देर से दिखने चालू होते हैं। उतनी दूर से क्या दिखेगा पास वालों को भी न दिखे है ये तो :)
    समीरजी: धन्यवाद :)

    ReplyDelete
  10. बहुत रोचक रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  11. कल एक नज़र देखा था....फिर आज के लिए रख छोड़ा..कि आराम से पढ़ा जाए और गुना जाए....

    अच्छा किया अपने इन pearls of wisdom को एक जगह इकट्ठा कर एक माला में गूंथ दिया...वरना इधर उधर लुढ़क कर गुम हो जाते...अब सब इस ख़ूबसूरत माला की एक एक मोती को गौर से देखेंगे...और admire करेंगे .(आप भी कर सकते हैं...:)..आपकी ही चीज़ है}

    ReplyDelete
  12. बहुत रोचक रचना

    ReplyDelete
  13. बड़े ही शानदार, गणितीय, और खतरनाक ज्ञानसूत्र हैं।
    और हाँ, मुहावरा तो लाजवाब है ही।

    ReplyDelete
  14. मुर्गी वाला नया मुहावरा हा हा हा । वैसे आप का काम तमाम हो गया सा लगता है मेरा मतलब है तमाम काम ।

    ReplyDelete
  15. खुदा करे कोई कुछ ना समझे ...
    कैसे लोग हैं फिर भी समझे जा रहे हैं ...

    ReplyDelete
  16. जब तक मुहल्ले की मुर्गी कोई और लेके ना भाग जाए दाल ही लगती है

    वाह वाह वाह...आपकी गर्दन कहाँ है??? माला डालने का मन कर रहा है...सच्ची ...
    नीरज

    ReplyDelete
  17. १२ Humans are magnificent hybrids of cruelty and kindness, love and hatred,... and many more such paradoxical extremes.

    मानव प्रकृति

    अपना टेस्ट भी हो जाएगा कि तकनीक याद रही कि नही...और पहली बार अपनी किसी पोस्ट को लिंक करने का आनन्द मिलेगा :) विषय से सम्बन्धित ही है...

    ReplyDelete
  18. @Patali-The-Village:शुक्रिया
    @रश्मिजी: शुक्रिया. आपने तो इन्हें मोती बना दिया. आप कह रही हैं तो फिर से देखता हूँ. :)
    @सिंह साहब: धन्यवाद.
    @अविनाशजी: खतरनाक ज्ञान ! ऐसे सूत्रों से तो फिर दूर ही रहना अच्छा है :)

    ReplyDelete
  19. @आशाजी: हा हा, अरे अभी तो बहुत काम बचे हुए हैं :)
    @वाणी गीत: खुदा सुनते कहाँ हैं, वो सुन भी लें तो उनकी कौन सुनेगा ! :) धन्यवाद.
    @अरविन्दजी: वैसे तो अलाप ही है. पर आप कह रहे हैं तो कुछ तो होगा ही :)
    @नीरजजी: गर्दन से तो मैं डर ही गया ! ...सच्ची.
    @मीनाक्षीजी: लिंक के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  20. भाई आज तो यह पोस्ट पढ़ कर अपनी समझ-शक्ति की सीमा पर सर धुनते हुए जा रहा हूँ ! ओझा जी, लग रहा है आपका क्रिएटिव फ्लेवर पकड़ने में अपुन को टाइम लगेगा :)

    ReplyDelete
  21. गहरे गोता लगा लगा के जो रतन सब निकाले हो न...गज्जब !!! बेहतरीन !!!! सब के सब....

    ReplyDelete
  22. @तृप्तिजी: धन्यवाद.
    @अम्रेंद्रजी: अरे मालिक आप ऐसा ना कहें ! अगर कुछ आपकी समझ-शक्ति के परे आ रहा है तो वो किस काम का !
    @रंजनादी: धन्यवाद :)

    ReplyDelete
  23. बहुत खूब ....नया अंदाज़ सीख लिया हमने भी ! शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  24. आपकी पोस्ट में यदा-कदा गणित के कुछ सूत्र दिखते हैं...ताका झांकी करते हुए. मैथ पहली बार कुछ अच्छा सा दिख रहा है :)
    interesting सा...आपका ढेर सा शुक्रिया.

    ReplyDelete