Oct 14, 2008

यूँ ही... कुछ भी !

1.वो बारिश:
पत्तों से छन कर जो बूंदें
तुम्हारे गालों पर टपक पड़ी थी
आज तक मुझे भिगो रही हैं !

2.खोज:
तुम ढूंढ़ती रही...
बड़ी महफिलों में जो प्यार
वो आजकल सड़कों पर रहता है!

3.गरीबी:
मेरे कदम जो लड़खडाए भूख से,
- पी के आया है साला.
तुम जो लुढ़के नशे में,
- यारों की महफ़िल थी !

4.पलकें:
उनकी याद में जो खुली रह जाती हैं पलकें,
वो कहते हैं के खुली आंख सोने की आदत है !

5.मोबाइल:
वो मुफ्त के मिले मिनट जाया करते रहे -
हम समझ बैठे की उन्हें हमसे मुहब्बत है !

6.बॉयफ्रेंड:
उन्हें चाहिए था बाईक और ड्राईवर,
हम मुफ्त में मजनूं बने रहे !

--
यूँही २ मिनट में लिखा गया बकवास है, मुझे ख़ुद अच्छा नहीं लगा आपको क्या लगेगा, इसलिए पहले ही क्षमा मांग लेता हूँ ! पर बकवास लिखने के लिए ही तो ब्लॉग है...

28 comments:

  1. दो मिनट में ऐसा लिखा है तो फ़ुरसत में क्या लिखोगे भाई, :-)

    वो मुफ्त के मिले मिनट जाया करते रहे -
    हम समझ बैठे की उन्हें हमसे मुहब्बत है !
    और इनकमिंग के पैसे भी भरते रहे :-)

    साभार,

    ReplyDelete
  2. हद करते हो भाई!!!

    गणित छोड़ यह लफड़े..हम क्या दुकान बंद कर दें..जब दो दो मिनट में ऐसा रचोगे..तो घंटा भर बैठ गये तो हम जैसे तो तुरंत नमस्ते हो लेंगे.

    ReplyDelete
  3. बढ़िया है। दो मिनट की मैगी पोस्ट!

    ReplyDelete
  4. उन्हें चाहिए था बाईक और ड्राईवर,
    हम मुफ्त में मजनूं बने रहे !

    भाई हम भी ड्राईविंग जानते है और आजकल बेकार हैं !
    कोई जगह खाली हो तो .....? :)

    खैर मजाक बंद , सुन्दरतम और आनंद दायक ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. बढ़िया है .कभी कभी यूँ भी बहना अच्छा लगता है अपने दिल में चलते विचारों के साथ :)

    ReplyDelete
  6. तुम ढूंढ़ती रही...
    बड़ी महफिलों में जो प्यार
    वो आजकल सड़कों पर रहता है!
    बहुत अच्छे साहब जी ! अब माजरा समझ आया !

    ReplyDelete
  7. जो अंतिम बात लिखी है बकवास वाली वही बकवास है बाकि में तो कई मतलब छुपे है. अभिषेक जी पाठकों को भी फैसला सुनाने का मौका दिया कीजिए. देख लीजिए पाठकों को कैसा लगा.

    ReplyDelete
  8. कमाल कर दिया अभिषेक भाई। आपने इन छोटी छोटी क्षणिकाओं में जीवन के कठिन सत्य उतार कर रख दिये हैं।

    ReplyDelete
  9. वो कहते है यूँ ही लिखा है .....हम इस इन्तजार में थे कि वो कब दिल का हाल लिखेगे ?सच कहूँ तो मुझे तो तुम्हारी बाकी ढेर सारी पोस्टो से बहुत अच्छा लगा ....ऐसा लगा जैसे अभिषेक ..असली अभिषेक नजर सा आया ...एक तुमने जो माँ के लिए बकलम ख़ुद में लिखा था आज तक झंझोड़ता है मुझे

    ReplyDelete
  10. "यूँ ही… कुछ भी" बहुत मस्त है। अगली बार फ़ुर्सत से लिखना।

    ReplyDelete
  11. उन्हें चाहिए था बाईक और ड्राईवर,
    हम मुफ्त में मजनूं बने रहे !
    किस ने कहा था मियां मजनू बनाने को,
    अब मुंडु भी बनो.
    बहुत सुन्दर.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. दो पंक्तियां आपकी नज्र करता हूं
    कि

    देख शर्मनाक हो गई
    ज़िंदगी मज़ाक हो गई
    मौत ने इशारा किया
    ज़िंदगी हलाक़ हो गई

    ReplyDelete
  13. antim teen ki soch achchi lagi, aaj ke yug mein bahuton ke sath aisa hota rahta hai.

    ReplyDelete
  14. बढ़िया! आई लाइक्ड द इंस्टेण्ट (मैगी) नूडल्स!:)

    ReplyDelete
  15. वो मुफ्त के मिले मिनट जाया करते रहे -
    हम समझ बैठे की उन्हें हमसे मुहब्बत है !

    ye batao bhaiya..tumhari haalat par hanse ki roye.n

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर! अभिषेक भाई, आगे और भी पढने की इच्छा है!

    ReplyDelete
  17. दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं /दीवाली आपको मंगलमय हो /सुख समृद्धि की बृद्धि हो /आपके साहित्य सृजन को देश -विदेश के साहित्यकारों द्वारा सराहा जावे /आप साहित्य सृजन की तपश्चर्या कर सरस्वत्याराधन करते रहें /आपकी रचनाएं जन मानस के अन्तकरण को झंकृत करती रहे और उनके अंतर्मन में स्थान बनाती रहें /आपकी काव्य संरचना बहुजन हिताय ,बहुजन सुखाय हो ,लोक कल्याण व राष्ट्रहित में हो यही प्रार्थना में ईश्वर से करता हूँ ""पढने लायक कुछ लिख जाओ या लिखने लायक कुछ कर जाओ "" कृपा बनाए रखें /

    ReplyDelete
  18. गरीबी:
    मेरे कदम जो लड़खडाए भूख से,
    - पी के आया है साला.
    तुम जो लुढ़के नशे में,
    - यारों की महफ़िल थी !

    हकीकत लिखा आपने.. यह एक अच्छी लगी

    ReplyDelete
  19. तो बस आप दो मिनट इन लाइनों और उसके बाद उस पर पाठकों की टीप के लिए निकाल लिया करें. और हाँ कई शब्द और हैं जिन पर दो मिनट सोचें. प्रतीक्षा सभी को रहेगी.

    ReplyDelete
  20. bahut accha likha hai aapne. kam shabdon me gahre maayne.ise bakwas kahna nainsafi hai

    ReplyDelete
  21. mujhe bahut hi pyaare lage...aapke 2 minute ke vichaar....imaandaari se kahu to shayad aap sach likh gaye aur phir use chupaane ka man kiya aapka.....kintu sachhi samvednayen hamesha hi itni hi pyaari lagti hai....

    ReplyDelete
  22. उन्हें चाहिए था बाईक और ड्राईवर,
    हम मुफ्त में मजनूं बने रहे !

    aapke 2 minute mein baat hai

    ReplyDelete
  23. bahut sahi vo bhi furasat me badhai .

    ReplyDelete
  24. तुम ढूंढ़ती रही...
    बड़ी महफिलों में जो प्यार
    वो आजकल सड़कों पर रहता है!

    yeh bakwaas bahut pasand aayi ojha ji, jite raho aur likhte raho, yeh bakwaas ji aajkal arth liye hoti hai.

    ReplyDelete
  25. क्‍या उवाचा है भाई। मजा आ गया। जारी रखिए। जमाए रहिए।

    ReplyDelete
  26. अच्छी क्षणिकाएं। पसंद आयीं।

    ReplyDelete