Oct 3, 2010

टाइम ट्रेवेल कराती एक किताब

ये पोस्ट पुस्तक समीक्षा नहीं है... वरन एक पुस्तक पढ़ने का व्यक्तिगत अनुभव है. बस जैसे पुस्तक उठा ली गयी और फिर खत्म होने पर ही रखी गयी वैसे ही अब पोस्ट लिखनी चालु कर दी है तो इस टटकी पढ़ी पुस्तक से जो बातें याद आएगी लिख दी जायेंगी. जिन्होंने ये किताब पढ़ने की सलाह दी थी उन्होंने ही इस पोस्ट लिखने की भी बात कही. योगदान है उनका इस ब्लॉग को जिन्दा रखने में, मुझे एक दुनिया से दूसरी दुनिया ले जाते रहने में. मेरी दिनचर्या को थोडा और व्यस्त करने में. और जब कांटेक्ट लिस्ट में  ऐसा कोई नंबर ना मिले जिसे परेशान किया जाए ऐसे में एक ऐसा नंबर रखने के लिए जिस पर जाकर अंगूठा रुकने में ज्यादा सोचता नहीं. भुक-भुकाते इन्टरनेट कनेक्शन पर हमसे चैट करने वाले ये हमारे बुरधुधुर मित्र हैं. इन दिनों रोज ५० पन्ने (वित्तीय गणित) पढ़ने का अपना छोटा सा लक्ष्य रहता है. पहले उसे पूरा करना और ये स्वार्थ कि १०-२० पन्ने ज्यादा पढ़ लूं ताकि उपन्यासों का जो जखीरा जमा कर रखा है वो भी पढ़े जाए. पर इक्वेशन लक्ष्य पर आगे बढ़ने नहीं देते. इस दिनचर्या को एक दिन  विराम देकर ये किताब उठा ली गयी... तो अब बातें 'कोहबर की शर्त' की.
--
किताब पर अगर एक लाइन कहूँ तो... 'किताब खोलने के बाद मैं अपनी जगह से तब उठा जब किताब का आखिरी पन्ना आ गया और आँखे तब-तब हटी जब-जब ये लगा कि पुस्तक पर बुँदे टपक जायेंगी.' आधी पुस्तक पढ़ने के बाद आगे पढ़ने के लिए हिम्मत जुटानी पड़ती है. दुखों का अंतहीन सिलसिला... पर गर्मी के दिनों का खुली धुप वाला एक शनिवार, सामने हडसन, हडसन पार मैनहट्टन और इस पार सेहत बनाने के लिए टहलते-दौड़ते लोग (इस दौडने वाले लोगों के व्यू में लडकियां भी शामिल कर ली जाएँ). ये व्यू और पुस्तक में Kohbar ki Shart वर्णित संसार बार-बार एक दुनिया से दूसरी दुनिया में ले जाते रहे.  व्यू का इंतना तेज परिवर्तन स्लॉटरहाउस ५  में बिली पिलग्रिम के साथ ही होता पढ़ा है मैंने और अनुभव पहली बार. मुझे तो टाइम ट्रवेल करा लाई ये किताब.

'लगभग' आधी पुस्तक वही है जो 'नदिया के पार' में दिखाई गयी है.  पर पुस्तकें हमेशा ही ज्यादा प्रभावी रहती हैं जगहों और चरित्रों के वर्णन में और फिर फिल्म के स्क्रिप्ट की अपनी सीमाएं होती हैं पूरी तरह परिवेश और दृश्यों को दिखाना उनका लक्ष्य भी नहीं होता. पर जहाँ फिल्म में सुखांत होता है वहीँ से पुस्तक में दुखारम्भ होता है.  एक के बाद एक... सुख के क्षण फिर तलाशने पर भी नहीं मिलते. पुस्तक के प्रभाव पर मैं शायद थोडा पक्षपाती हो जाऊं क्योंकि  मेरा अनुभव कहता है कि अगर कुछ भी पढते समय अगर उससे जुड़ाव हो जाए लगे कि कहीं ना कहीं हमने भी ऐसा महसूस किया है. कुछ पढते समय अगर पात्रों के साथ-साथ चलना हो पाता है वो बहुत अच्छा लगता है. कुछ पंक्तियाँ भले ही कितनी साधारण हो हवो मेशा के लिए याद रह जाती है क्योंकि उसमें अपनी या अपने आस-पास की बात दिखती है. ये कहानी वहाँ चलती हैं जहाँ मेरी जिन्दगी का बड़ा हिस्सा गुजरा है.  और वो हिस्सा जिसे बचपन कहते हैं. मैं घर जाने के लिए आज भी उसी स्टेशन पर उतरता हूँ  जिसका वर्णन पहले पन्ने पर है. उसी गाँव में मैंने प्राथमिक शिक्षा पायी है जो पुस्तक में नायिका का गाँव है. पुस्तक पढते हुए मैं उसमें आये हर रास्ते पर चल पाया. एक-एक दृश्य देखा हुआ मिला. एक एक चरित्र में किसी की छवि दिखती गयी. खेती के तरीके अब भी लगभग वही हैं. उन खेतों में आज भी भदई बोना जुए का खेल ही है... नावों और बैलों को छोड़कर आज भी सबकुछ वैसा ही है. पुस्तक में आया बरगद का पेंड आज भी वैसे ही खड़ा है. आंचलिक शब्दों, दृश्यों और पात्रों से जुडने में जहाँ कोई समय नहीं लगा वहीँ उनको भुलाने में समय लग रहा है.

पुस्तक में कई यादगार क्षण आते हैं चाहे वो थोड़े ढीले चरित्र के काका का चतित्र परिवर्तन हो, होली का वर्णन या फिर नदी पार करने वाले दृश्यों का जीवंत वर्णन. गाँव में हो रही नौटंकी और खेत के दृश्य. और फिर बचपन-किशोर के पड़ाव का मासूम वार्तालाप. पढते समय पाठक अपने आपको कहीं न कहीं आस पास बैठा पाता है. सरेह में चलते चन्दन-गुंजा के साथ और नदी पार करते उन नावों पर...

सब कुछ सही चल रहे माहौल हंसती-खेलती भोली मासूम जिंदगीयों में अचानक ही चरित्रों के मन में द्वंद्व और जीवन में असहनीय दुखो का जब सिलसिला चालु होता है तो आँखे कई बार नम हो आती हैं. किताब बंद कर आँख बचानी पड़ती है. कई बार पढते-पढते मन करता है कि ऐसा क्यों नहीं हो गया… पर किसी की गलती भी नहीं दिखती. सभी अपनी जगह पर सही दिखते हैं. लेकिन एक घर में  त्रिभुज के तीन बिंदु की तरह जुड़े मगर अलग भी. क्या बिडम्बना है सभी एक दूसरे का भला चाहने वाले और फिर भी चीजें उलटी पड़ती जाती हैं. पैराडॉक्स जिसका नाम है जिंदगी. हर कुछ पन्नों के बाद लगता है चलो थोड़ी संतुलित हुई कहानी…पर  दुर्भाग्य का सिलसिला थमता ही नहीं और सब कुछ उल्टा होता चला जाता है.

किताब थोड़ी निराशावादी लगती है कई जगह. लगता है कुछ भी करो जिंदगी मैं जो होना होता है वही होता है. तो कई बार ठीक इसका उल्टा... चन्दन के दिमाग की हलचलें और उसकी दृढ़ता. कई डाइमेंशन में ले जाती है कहानी. ग्रामीण जीवन के कई पहलुओं का सटीक चित्रण तो है ही.

एक ही  बार में समाप्त हो जाने वाली किताब निश्चय ही मोटी नहीं है (कीमत भी सिर्फ ५० रुपये). पर सोचे गए स्तर से कहीं ज्यादा दुःख पढने को मिल जाता है. पुस्तक पढते-पढते जब लगता है कि परिवेश, जगहों के नाम सब सही हैं और सारे चरित्र भी बिल्कुल वास्तविक से तो फिर कहानी भी सच सी लगने लगती है.  मन को याद दिलाना पड़ता है कि नहीं ये सिर्फ कहानी है... वैसे कितनों को ही ऐसे समझौते करने पड़ते हैं जिंदगी में.  मैं अपने आपको समझाने की कोशिश करता हूँ… सबकी परिणति शायद इतनी बुरी नहीं होती. कुसमय का शिकार भी कितने ही लोग होते हैं. पर अभी भी मन ये मानने को तैयार नहीं कि ये सभी एक साथ किसी की जिंदगी में हो जाते हों. वैसे इन सभी के एक साथ होने की सम्भावना शून्य भी तो नहीं !


डूबते-उतराते, इस दुनिया से उस दुनिया आते-जाते गंगा-सोना की धार दिमाग में और हडसन की धार सामने... एक शनिवार का दिन कुछ यूँ बीता.

~Abhishek Ojha~


पोस्टोपरांत अपडेट: मेरे एक दोस्त ने सवाल लिख भेजा है "आपका ब्लॉग पढने वालों में से कितने जानते होंगे कि 'कोहबर' का मतलब क्या होता है?". मुझे लगता है... लगभग सभी?

40 comments:

  1. तुम्हारा तो टाइम ट्रेवल हो गया भाई, उन पाठकों का क्या जिन्होंने किताब भी नहीं पढी और नदिया के पार भी नहीं देखी? अच्छी किताबों के बारे में यूं ही जानकारी मिलती रहे तो हमारा जीवन भी धन्य हो जाए.

    आभार!

    ReplyDelete
  2. ऐसी किताबें पढ्ने का वक्त निकाल ले रहे हैं, यह क्या कम है ।
    आंचलिक जुडाव ने शायद ज्यादा इफेक्ट डाला है आप पर ।
    प्रविष्टि का रोम-रोम आत्मीय भाव बखान रहा है ।
    आभार ।

    ReplyDelete
  3. एक अलग थलग से परिवेश में, दिक्काल में देशज रचना पढने का अपना अनुभव ही अलग रहा होगा -कोहबर की शर्त एक कालजयी रचना है !

    ReplyDelete
  4. "नदिया के पार" तो देखी ......"कोहबर की शर्त" पर अब तक आँख नहीं गड़ाई !

    ReplyDelete
  5. आपका समय कहीं डूबने उतराने में तो बीता। मैं तो डूबा रहा अपनी अलस-झील में।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. सचमुच बहुत बढिया उपन्यास है, कोहबर की शर्त. दस साल हो गये इसे पढे हुए... आभार एक बार फिर याद दिलाने के लिये. और हां, कोहबर का मतलब तो सभी जानते होंगे, क्योंकि ये उत्तर, मध्य और पूर्वी भारत में शादी की प्रमुख रस्म है. मैने तो हर शादी वाले घर में कोहबर लिखा देखा है, उसका पृथक कमरा भी. हो सकता है अन्य प्रान्तों में इसे किसी और नाम से जाना जाता हो.

    ReplyDelete

  8. अहाहा... क्या याद दिलाया है ?
    कल ही इसे दुबारा खोलता हूँ ।

    ReplyDelete
  9. इस किताब का नाम भर सुना है....पहले पन्ने से आखिरी तक बाँध कर रखा..तो निश्चय ही रोचक होगी...(पर कीमत बताने से या ज्यादा मोटी नहीं,बताने से क्या ...मिलनी भी तो चाहिए पढने को...)

    फिल्म कभी भी किताब की जगह नहीं ले सकती..जो आठ पन्नों में वर्णित होता है..मात्र आधे मिनट के दृश्य में समेट लिया जाता है.

    और जहाँ तक कोहबर शब्द के अर्थ का प्रश्न है...बहुत लोग नहीं जानते (चाहे तो poll करा लो :) ) क्यूंकि इस नाम से एक ब्लॉग भी है...जिसका अर्थ कई लोग मुझसे पूछ चुके हैं.

    ReplyDelete
  10. ऐसी किताबे हमेशा कहीं न कहीं जहन में रहती है ...नदिया के पार तो पढ़ी हुई है ...इसको कहीं तलाश करते हैं ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  11. कोहबर क्या होता है ?? बता तो देते ...?

    ReplyDelete
  12. पहली बार डेल्ही से सूरत की ट्रेन यात्रा में बांचा था .इसे....मुझे याद है सर्दियों के दिन थे ओर रतलाम में कुल्हड़ की चाय पीते पीते हमने ब्रेक लिया था .....

    ReplyDelete
  13. अच्छा लगा तुमसे इस किताब के बारे में जानना। आगे भी ऐसी पोस्ट्स का इंतज़ार रहेगा।

    ReplyDelete
  14. बड़ी खूबसूरती से लिखा है किताब के बारे में। बहुत अच्छा लगा।

    कोहबर के बारे में इस पोस्ट में लिखा है!

    ReplyDelete
  15. "कोहबर की शर्त" तो अब ढ़ूंढ कर लाना होगी...

    ReplyDelete
  16. यह उपन्यास काफी पहले पढा था और इसकी कथावस्तु भूल गया था । याद दिलाने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  17. मैनहटन - बलिहार और चौबे छपरा
    गंगा - हडसन
    न्यूयार्क - बलिया
    ग्रेटा - गुंजा
    एभी - अभिषेक

    एक बढ़िया उपन्यास की भूमि बनती है। हाँ, यहाँ टिप्पणी कर गयी 'मुन्नी बदनाम' जी उस कथा को स्पाइसी भी बना देंगी। फ्री होकर एकाध साल का यह प्रोजेक्ट कर ही डालो। लेकिन अंग्रेजी में।

    ReplyDelete
  18. आपकी पुस्तक समीक्षा ने पुस्तक पढने की इच्छा तीव्र कर दी है...ये समीक्षा की सफलता ही है...बधाई
    नीरज

    ReplyDelete
  19. इतनी अच्छी समीक्षा कि पुस्तक पढ़ने की तिव्र इच्छा जगा दी। धन्यवाद इतनी अच्छी पुस्तक की जानकारी देने के लिए।

    ReplyDelete
  20. अभिषेक जी कोहबर की शर्त की समीक्षा नही की पर समीक्षा से ज्यादा हो गया । किताब पढते पढते किताब को जी भी लिया आपने ऐसा ही होता है जब परिवेश जाना पहचाना देखा भाला है । किताब नही पढी पढना चाहूंगी जब मौका लगे । कोहबर होता क्या है बता देना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. 'कोहबर' उस कमरे को कहते हैं जहाँ नवदंपति को विवाह के बाद ले जाया जाता है. यह बिहार के कुछ हिस्सों और उत्तर-प्रदेश के कुछ हिस्सों में बेहद प्रचलित शब्द है.

      Delete
  21. @ ये पोस्ट पुस्तक समीक्षा नहीं है...

    आपकी पुस्तक समीक्षा ने पुस्तक पढने की इच्छा तीव्र कर दी है...ये समीक्षा की सफलता ही है...बधाई
    नीरज

    इतनी अच्छी समीक्षा कि पुस्तक पढ़ने की तिव्र इच्छा जगा दी। धन्यवाद इतनी अच्छी पुस्तक की जानकारी देने के लिए।
    ________________

    समीक्षा अच्छी करते हैं आप। :) हमारी भी यही राय है।

    ReplyDelete
  22. ताऊ पहेली ९५ का जवाब -- आप भी जानिए
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/10/blog-post_9974.html

    भारत प्रश्न मंच कि पहेली का जवाब
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/10/blog-post_8440.html

    ReplyDelete
  23. ओझा बाबू
    यह किताब मैंने अब तक नहीं पढ़ी थी मगर अब तो पढनी ही पड़ेगी
    वैसे बहुत शानदार पोस्ट लगी है आपने

    ReplyDelete
  24. दुखी होने के लिए 50 रूपये भी ख़र्चे जाएं !

    ReplyDelete
  25. बहुत दिन से बुकमार्क करके रखा था, मगर आज पढ़ा हूँ.. बस ये बताओ कि तुम भेजोगे या मुझे छीननी पड़ेगी?

    ReplyDelete
  26. सार्थक लेखन के लिये आभार एवं “उम्र कैदी” की ओर से शुभकामनाएँ।

    जीवन तो इंसान ही नहीं, बल्कि सभी जीव भी जीते हैं, लेकिन इस मसाज में व्याप्त भ्रष्टाचार, मनमानी और भेदभावपूर्ण व्यवस्था के चलते कुछ लोगों के लिये यह मानव जीवन अभिशाप बन जाता है। आज मैं यह सब झेल रहा हूँ। जब तक मुझ जैसे समस्याग्रस्त लोगों को समाज के लोग अपने हाल पर छोडकर आगे बढते जायेंगे, हालात लगातार बिगडते ही जायेंगे। बल्कि हालात बिगडते जाने का यही बडा कारण है। भगवान ना करे, लेकिन कल को आप या आपका कोई भी इस षडयन्त्र का शिकार हो सकता है!

    अत: यदि आपके पास केवल दो मिनट का समय हो तो कृपया मुझ उम्र-कैदी का निम्न ब्लॉग पढने का कष्ट करें हो सकता है कि आप के अनुभवों से मुझे कोई मार्ग या दिशा मिल जाये या मेरा जीवन संघर्ष आपके या अन्य किसी के काम आ जाये।
    http://umraquaidi.blogspot.com/

    आपका शुभचिन्तक
    “उम्र कैदी”

    ReplyDelete
  27. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  28. सर नहीं पढी यह किताव । आपका लेख पढा । यदि किताव भी पढी होती तो वाकई आपका लेख अच्छा लगता इसका अर्थकदापि नहीं है अभी अच्छा नहीं लगा क्योंकि या तो उस किताव के पात्र याद आते या घटना क्रम शायद आखें भी नम होती

    ReplyDelete
  29. भैया अब तो और कुछ नहीं,खाली ई बताओ कि कितबवा मंगाई कैसे जाय ????

    ReplyDelete
  30. आपने कहा समीक्षा नहीं है यह...लेकिन यह जो भी है,इतना बेजोड़ है न...कि क्या कहें...

    ReplyDelete
  31. hum to intazar karte rahtein hain ki aapki post jaldi aye agli post ke liye aankhein bichhaein hain.sunder lekhan ki badhai.

    ReplyDelete
  32. आप टाइम ट्रैवलर हैं, सो 'फिल्‍मी पटना' देखने का आग्रह ईमेल से भी किया है.

    ReplyDelete
  33. मैने इस उपन्यास को पहली बार तब पढ़ा था जब मै क्लास ४ का विद्यार्थी था. फिर मै इस किताब को जाने कितनी बार पढ गया, तब मुझे पता भी नही था की नदिया के पार इसी उपन्यास पे आधारित है. एक बार दूरदर्शन पे नदिया के पार आ रही थी, तो मैने अपने पापा से कहाँ अरे ये तो लग रहा है कि जैसे मै " कोहबर की शर्त" देख रह हू. पापा मुझे बताए कि उसी पे बनी है.फिर पापा के कोइ मित्र "कोहबर की शर्त" को ले के चले गए, और वो वापस करना भुल गए. एक दिन मै बलिया रेलवे स्टेशन पे अपनी ट्रेन का इन्तजार कर रह था. अचानक मेरी नज़र वहा के एक बुक स्टाल पे रखी हुयी " कोहबर कि शर्त " पे गई. मैने खरीद लिया. जब-जब मुझे बलिया कि बहुत याद आती है, मै इसको जरुर पढ़ता हू. मुझे इसको पढ़ते हुए हमेशा ऐसा लगता है जैसे मै अपने बलिया मे हू और वहाँ की किसी गली मे घुम रहा हू. किसी किताब के साथ् ऐसा जुडाव मुझे केवल राही मासुम रजा कि "नीम का पेड और आधा गावं" मुन्शी प्रेमचन्द कि "प्रेमाश्रम और गोदान", धर्मवीर भारती के "गुनाहों का देवता" और कमलेश्वर कि "कितने पाकिस्तान" के साथ ही हो पाया है.

    ReplyDelete
  34. धन्यवाद दीपकजी.

    ReplyDelete
  35. कोहबर की शर्त. बीस साल हो गये इसे पढे हुए.।.. एक बार फिर इसकी याद दिलाने के लिये. धन्यवाद । कोहबर का मतलब तो सभी जानते होंगे, क्योंकि ये उत्तर, मध्य और पूर्वी भारत में शादी की प्रमुख रस्म है. मैने तो हर शादी वाले घर में कोहबर लिखा देखा है, उसका पृथक कमरा होता है ।

    ReplyDelete
  36. फिल्म नदिया के पार में इस उपन्यास की आधी कहानी ही प्रयोग हुई थी .उपन्यास की बाकी कहानी को लेकर नदिया के पार पार्ट 2 बननी चाहिए, जैसे पिछले वर्ष सचिन और राजश्री की फिल्म अखियों के झरोखों से फिल्म का पार्ट 2 फिल्म जाना पहचाना बनी थी

    ReplyDelete
  37. वैसे उपन्यास की बाकी कहानी क्या है

    ReplyDelete
    Replies
    1. कहानी बहुत दुखद है। गुंजा की शादी चन्दन से नहीं होती बल्कि उसके बड़े भाई से हो जाती है। और फिर दुखो का अनवरत सिलसिला है... पतली सी किताब है। मिले तो पढ़िएगा।

      Delete