Jan 23, 2012

पाँच लीटर दूध और आधा किलो चीनी (पटना १०)

 

बैरीकूल से अक्सर चाय की दूकान पर ही मिलना होता था. चार बजे के आस पास, ४ रुपये की चाय. नियमित फोन करता था बैरी – ‘आइये भैया नीचे, चाय पी कर आते हैं’. मुझे उस दूकान की चाय अच्छी लगने लगी थी. बिरेंदर को अच्छी नहीं लगती.

‘अबे ! फिर तीता बना दिया है? है न भैया?’ - मेरी तरफ देखते हुए बिरेंदर ने पूछा.

‘हम्म…. हाँ, पर ठीक है' - मुझे ताज़ी पत्तीयों की खुशबू लिए कम देर तक उबली चाय अच्छी लगती. मैं चाय का शौक़ीन तो नहीं पर मुझे लगता है कि चाय अच्छी-बुरी नहीं होती. पीने वाले पर निर्भर करती है. कितना दूध, कितनी पत्ती और कितनी देर तक उबाली जाय. इन सबका अपना व्यक्तिगत पैमाना होता है  ! चाय बनाने के सबके अपने-अपने तरीके भी होते हैं. चाय के शौकीनों को एक-दूसरे की बनाई चाय अच्छी नहीं लगती ! वैसे बैरी कहता है कि लोग जैसे-जैसे ‘बड़े आदमी' बनते जाते हैं – ‘ब्लैक टी' की तरफ बढते जाते हैं. चीनी और दूध दोनों की मात्रा कम करते जाते हैं. ज्यादा बड़े लोग बिना शक्कर बस ब्लैक ही ‘परेफर’ करते हैं.

उस दिन मुझे जुकाम हुआ था.  जुकाम हो तो मेरी आँखें ज्यादा परेशान होती हैं…. सूजी हुई, लाल और अनवरत आंसू !  कुल मिला कर हालत ऐसी होती है कि जो भी मेरी हालत देख ले उसे चिंतित होने का अभिनय तो करना ही पड़ता है. और फिर बैरी तो… जान लड़ा देने वाला इंसान है.

बैरी ने कहा ‘भैया, आज कॉफी पी लीजिए. छोटू, एक अच्छी कॉफी बना के ले आ’.

‘… दूध ज़रा कम डालना.’ - मैंने चाय वाले से कहा. उससे दो दिन पहले कॉफी किसी तरह पी पाया था.

‘सर ! त काफी बनेगा कैसे? काफी त दूध में ही नू बनता है ?!’ - चाय वाले ने कहा.

बैरी ने उसे मना कर दिया. ‘चलिए भैया… आज आपको बढिया काफी पीला के लाते हैं.’ बैरी अपनी बाइक ले आया और ५ मिनट में हम मोना सिनेमा पंहुच गए.  और… यहाँ भी सभी बैरी को पहचानते थे. बीच में एक लड़का दिखा तो बैरी चला गया. २ मिनट बाद आया तो हंसते-हंसते लोट-पोट. मैंने पूछा ‘क्या हुआ?’

‘कुछ नहीं भैया, उ जो लड़का था न, मेरा दोस्त है. यहीं मोना में टिकट काउंटर प रहता है, बोलता है कि भैया को बोलो… काहे पहने हैं इ सब फूटपाथ वाला कपरा… आ इ चाइना मोबाईल काहे लिए हैं?’

‘हा हा' - मुझे बात समझ में नहीं आई. और कई बार ना समझ में आये तो साथ हंस देना एक अच्छा उपाय होता है.

बैरी ने समझाया ‘इ जो ए एक्स लिखा है न आपके टी-शर्ट पर इ यहाँ फूटपाथ पर ही मिलता है. इ हो गया… फिर से… केल्विन क्लेन हो गया… इ सब फूटपाती कपरा है पटना का. आ फोन तो टच स्क्रीन बड़ा… माने चाइना मोबाईल ही होगा.’

तब तक हमारी कॉफी आ गयी. ‘आछे, एक ठो बात का बुरा मत मानियेगा भैया. लेकिन ऐसा नहीं है आजकल ऑफिस में सब काफी इसलिए पीता है कि इसी बहाने एक ठो ब्रेक मिलेगा?’

‘नहीं नहीं, ऐसा नहीं है. कई लोग तो अपने डेस्क पर ही कॉफी पीते हैं.’

‘अरे ! लेकिन लाने त जैबे करेगा. अब देखिये… मजदूर सब एतना खैनी काहे खाता है?’

‘नशा है !’

‘अरे नहीं भैया. नशा तो खैर हैये है. लेकिन इसी बहाने उसको दस-पन्द्रह मिनट का बरेक मिल जाता है. पाँच मिनट बनाएगा, बांटेगा… ऐसे करके सब मटिया लेता है… वइसेही आजकल काफी का फैसन है. अपना ऑफिस से निकले १० मिनट टाइम पास किये… काफी बरेक !’

‘बात तो सही है  तुम्हारी'

‘आछे , एक ठो और बात है. इ वाला काफिया आप पी कैसे लेते हैं?’

‘क्यों?’ मैंने पूछा.

‘एक बार हम भी पीये हैं… यही वाला. बहुते कड़वा होता है. एकदम जानलेवा… अइसा जहर जैसा चीज कोई काहे पीता है. हमको तो नहीं बुझाता है.'

‘अरे चीनी-दूध डाल लेते’ - मैंने हंसते हुए कहा.

‘चीनी-दूध? देखिये भैया ! एक ठो बात बोलें? इसमें पांचो लीटर दूध आ एको पौवा चीनी डाल दीजियेगा त आपको लगता है कि ई पीने लायक बन पायेगा? लेकिन अब कड़वाहट के लिए ही पीते हैं, यही कह दीजिए. सब कहता है कि नींद भाग जाता है, सर दर्द ठीक हो जाता है. अरे इहे नहीं कवनो जहर जैसा कड़वा चीज पी लीजिए…. त पीने के बाद १० मिनट तक तो अइसही माथा झनझनाते रहेगा… अईसा कड़वा मुंह में गया त कोई और टेंसन बचेगा? !  अरे यही काम नीम का पत्ता  भी कर सकता है, करेला भी… नहीं तो दुई ठो मिर्ची चबा लीजिए… गारंटी है नींद भाग जाएगा. हा हा हा. है कि नहीं भैया ? लेकिन अब फैसन है तो है.’

‘हे हे हे. बोल तो तुम बिल्कुल सही रहे हो' मैंने हंसते हुए कहा.

‘ऐ जिम्बाज ! इधर आओ तनी...’ बैरी ने एक लड़के को बुलाया.

‘देख रहे हैं भैया. इ जिम्बाज है पटना का. अरे आओ न इधर… सर्माता काहे है, परनाम कर भैया को’ बैरी ने कहा. ‘दो मिनट में आया बीरेंदर भैया’ कहकर जिम्बाज कहीं चला गया तो बैरी ने आगे सुनाना शुरू किया ‘लौंडा बड़ा जिम्बाज है? जिम्बाज समझते हैं? जांबाज नहीं - जिम बाज. साला काम करेगा नहीं. आ जिम जाएगा. हमको देखिये… हम जानते ही नहीं है जिम होता क्या है !’ बैरी ने सगर्व बताया.

‘ज़माना बदल गया है भैया… अब देखिये न पहिले बाबूजी भोरे-भोर गाते थे. ‘जागिये ब्रजराज कुंवर पंछी बन बोले’… अब साला फोन का अलारम ही भजन कीरतन है. ‘जागिये ब्रजराज कुंवर घंटी टन-टन बोले’… सब जगह वही हाल है. हमरा मनेजर है…. जानते हैं… नहैबो करता है त फोन बगल में रखता है. सबसे पहिले खाली हाथ पोछ के एक बार फोनवा देख लेगा तब जाके बाकी देह पोछता है. पता नहीं साले को अइसा का चेक करना होता है हर दू मिनट में फोन जरूर देखेगा. और इ लईका सब तो एतना मेसेज करता है कि… मूतने भी जाएगा त एक हाथ से एसेमेस करते रहेगा… दूसरा हाथ त… हा हा… . सच्ची बोल रहे हैं भैया… अभीये इंटरवल में यहीं मोने में आपको दिख जाएगा…’ बैरी ने फोन पर कुछ टाइप करते हुए कहा.

‘लेकिन तुम भी तो इसी जमाने के  हो?’ मैने हंसंते हुए पूछा.

‘नहीं भैया. हमलोग अभी भी…’ बैरी ने विस्तार से बताया कि वो कैसे नहीं है अपनी उम्र के बाकी लड़कों के जैसा.

‘यार बिरेंदर कुछ भी हो तुम बात बहुत सही कहते हो, एकदम ज्ञानी की तरह' मैंने कहा.

‘अरे नहीं भैया, हमलोग जमीन से जुरे आदमी हैं. और जहाँ तक ज्ञान का बात है तो एक बात जान लीजिए इ बिहार है यहाँ किसी को ज्ञान हो जाएगा. आपको क्या लगता है बुद्ध को यहीं ज्ञान क्यों मिला? आये अपना… इधर कुछ दिन… राजा आदमी थे… इधर आके लूटे-पीटे होंगे आ जब भूख से पटपटाये… हो गया ज्ञान !’ बैरी ने हंसते हुए कहा.

हम वापस आ गए. अभी बैरी की कई बातें याद आ रही हैं… नींद से उठते ही आँखों के सामने पहली चीज मोबाईल स्क्रीन  होती है तो बैरिकूल की बातें याद आती हैं. और ये नया प्रभात मन्त्र:

फोनाग्रे वसते ट्विटर: फोनमध्ये जीमेलः| फोनमुले तू फेसबुक: प्रभाते कर फोन* दर्शनं ||

मुझे पूरा भरोसा है कि आप भी किसी ऐसे ‘आजकल के लोग’ को जानते हैं जो फोन में घुसे रहते है. लेकिन आप खुद ऐसा नहीं करते होंगे. …कई बार मुझे समझ में नहीं आता कि ये ‘आजकल के लोग' होते कौन हैं. Smile क्योंकि सभी तो दूसरों को ही आजकल के लोग कहते हैं… खुद तो वैसे होते नहीं Smile

~Abhishek Ojha~

बहुत दिन हो गए पटना से लौटे हुए. पटना सीरीज को १० तक ले जाने के लिए आज फिर बैरी को खींच लाये. संभवतः पटना सीरीज की आखिरी पोस्ट हो.

*सुधार के लिए आभार: आराधना चतुर्वेदी.

28 comments:

  1. बहुत बढिया रहा पटना दर्शन और काफ़ी, बैरी का वार्तालाप

    ReplyDelete
  2. मस्त पोस्ट. बैरी कूल का जवाब नहीं. और ई फ़ोन के बारे में प्रातः स्मरण मन्त्र अद्भुत है.

    "नहैबो करता है त फोन बगल में रखता है. सबसे पहिले खाली हाथ पोछ के एक बार फोनवा देख लेगा तब जाके बाकी देह पोछता है."

    मस्त

    ReplyDelete
  3. बैरी कूल से पता किजीये कि ये हरी चाय पीने वाले किस श्रेणी मे आते है। आजकल वियतनामी, चीनी लोगो की संगत मे हम हरी चाय पीने लगे है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बबल टी पर भी पूछता हूँ. :) जवाब आने पर बताता हूँ आपको.

      Delete
  4. संभवतः पटना सीरीज की आखिरी पोस्ट हो.
    -----------
    यू डेयर नॉट मेक इट द लास्ट वन। कैरी ऑन!

    ReplyDelete
  5. मुझे लगता है कि चाय अच्छी-बुरी नहीं होती. पीने वाले पर निर्भर करती है. कितना दूध, कितनी पत्ती और कितनी देर तक उबाली जाय. इन सबका अपना व्यक्तिगत पैमाना होता है !

    ... ... वाह! बढिया बात!

    ई बार त मजदूर बिरोधी बात बोल रहे हैं बिरेंदर जी!

    जिम्बाज से एक बार फिर अजित जी को पछाड़ गये भाई!

    बुद्ध को ग्यान कइसे मिला... अब तो इतिहास भी बदलवाना पड़ेगा किताब में।

    आपको बन्हिआ ग्यानी से भेंट- मुलाकात हो गया!

    एगो बात शिव जी कह ही गये... हम भी उसपर धेयान देते!

    ई बार दर्शनशास्त्र नजर आया ईहाँ।

    ReplyDelete
  6. मस्त...

    बैरी भी कई बातें सिखा गए :
    @नहीं तो दुई ठो मिर्ची चबा लीजिए… गारंटी है नींद भाग जाएगा. : आजमाएंगे जी.


    आपको क्या लगता है बुद्ध को यहीं ज्ञान क्यों मिला? आये अपना… इधर कुछ दिन… राजा आदमी थे… इधर आके लूटे-पीटे होंगे आ जब भूख से पटपटाये… हो गया ज्ञान!

    वाह .... दिल्ली से नेता लोगों को भी भेजना पड़ेगा... ज्ञान प्राप्ति के लिए.

    @@फोनाग्रे वसते ट्विटर: फोनमध्ये जीमेलः| फोनमुले तू फेसबुक: प्रभाते कर दर्शनं @@
    पुराना मंत्र भूल जायेइए - इसी को याद रखना पड़ेगा.:)

    ReplyDelete
  7. तुम्हारी ये पटना सीरिज कालजयी है. नोट कर लो.

    ReplyDelete
  8. दानापुर में इतना मीठा चाय पिलाता था सब, स्नेह के कारण..

    ReplyDelete
  9. पोस्ट पढ़ते-पढ़ते..जोरो की चहास लग गयी...ये भी ख्याल आ रहा था..एक बार मोबाइल देख लें...कोई मैसेज ना आया हो...हम तो पूरी पोस्ट पढ़ने के बाद चेक करने जा रहे हैं....ये आजकल के लोग तो बीच बीच में ही मोबाइल चेक करते होंगे :)

    और लास्ट पोस्ट कैसे होगी...बैरिकूल ने फोन करके कोई किस्सा सुना दिया तो...यहाँ शेयर करना तो बनता है ना :)

    ReplyDelete
  10. पटना सीरीज देखला के बाद त बुझाता है कि चालू रहे.. बैरीकूलवा त कमाल का ज्ञानी अमदी है!! एदम्मे चित्त कर देता है अपना बात से!! बेजोड सीरीज था अभिषेक भाई!! चलते रहना चाहिए!!

    ReplyDelete
  11. बहुते बढ़िया...

    ReplyDelete
  12. फोनाग्रे वसते ट्विटर: फोनमध्ये जीमेलः| फोनमुले तू फेसबुक: प्रभाते कर दर्शनं ||

    हा हा हा ...:)

    ReplyDelete
  13. अरे..! ई जुलुम नहीं न कीजिए। अभिये तो परना सुरू किया हूँ..आखिरी वाली बतिया तो भूलिये जाइये। पटना सीरीज भी खतम हो सकता है का..? जब तक पटना रहे तब तक सीरीज रहे..भले से देर हुई जाय। जै राम जी की। अउर ऊ ..कर दर्शनं तो चुराइये लिये जा रहे हैं..! कहीं चिपका देंगे..हा हा हा।

    ReplyDelete
  14. बिरेंदर तो बड़े काम के मनई हैं ..ई गाथा तो जोरदार रही ....फोन मन्त्र जबरदस्त है ......

    ReplyDelete
  15. चौचक पोस्ट है.....एतना कि चौचक में और दस चौचक जोड़ना पड़ेगा :)

    ReplyDelete
  16. अच्छा जी !!! उस दिन फोन पे आपको बताये कि काफ़ी पीने जा रहे हैं, हाँ हाँ वही जब आप बोले थे कि बैरीकूल के बारे में लिखने का प्लान बना रहे हैं | आप तो चाप दिए कसम से :) :) :) | वही टाइम बता देते हम कसम से काफ़ी ना पीते :) :) :)
    मजा आ गया गुरु...काफ़ी, करेला, मिर्ची...सब नाप दिए...जियो जियो !!!!

    और सीरीज का अंत काहे खातिर, हैं जी????

    ReplyDelete
  17. पिछला कमेंट हालाँकि संभवत: को बीप-बीप करके लिखा था, फ़िर भी उड़ गया। 26 जनवरी के आसपास सख्ती शायद गूगल भी बढ़ा देता होगा:) मस्त, गज़्ज़ब, चौचक वगैरह वगैरह सब कुछ हमारी तरफ़ से भी, लेकिन शर्त यही है कि पटना सीरीज़ जारी रहनी चाहिये। ’बैरी कूल’ पर फ़िदा तो हम पहले से ही हैं, इस बोधि ज्ञान के बाद डबल फ़िदा।

    ReplyDelete
  18. कड़वी कॉफ़ी पीने का अपना अलग आनंद है, और बैरीकूल की बातें जबरदस्त हैं, मंत्र सानदार है, जिय्यो राजा !

    ReplyDelete
  19. बैरी का फिर से आना भाया.

    ReplyDelete
  20. not last plz.. its sooooo interesting sir

    ReplyDelete
  21. भेरी कूल पोस्ट! सिलसिला जारी रहे - यह कड़ी रोकने से पहले ब्लॉग रिफ़रेंडम कराना पड़ेगा ...

    ReplyDelete
  22. जय हो बैरी कूल महाराज जी की!
    आनंदम!
    ऐसे थोड़े ही पटना सीरीज ख़त्म होने दी जायेगी, चलाते रहिये।
    बैरी कूल साहब के पास बहुते ज्ञान भरा है अभी।

    ReplyDelete
  23. आजकल के लोग न जाने क्या-क्या मजेदार लिखते रहते हैं!गजब टाइप! :)

    ReplyDelete
  24. बैरी भइया को काफी पसंद नही क्यूं कि पांच किलो दूध और पावकिलो शक्कर डालने पर भी स्वाद नही होगा । एक्सप्रेसो पी या कापूचीनो । इनसे वार्तालाप चलता रहे । फोन मंत्र जोरदार ।

    ReplyDelete
  25. बुद्ध को यहीं ज्ञान क्यों मिला? आये अपना… इधर कुछ दिन… राजा आदमी थे… इधर आके लूटे-पीटे होंगे आ जब भूख से पटपटाये… हो गया ज्ञान !’ बैरी ने हंसते हुए कहा
    .... हा हा हा ... ये बात तो बुद्ध को भी नही पता होगी, बहुत जबरदस्त हाजिरजवाबी.

    ReplyDelete