Dec 7, 2010

फंडा बाबा

बहुत समय पहले की बात नहीं है. फंडा बाबा नामक एक प्रसिद्द बाबा हुए. कुछ ही समय में उनकी फंडई के चर्चे दूर दूर तक फैले गए. हर व्यक्ति को हर प्रकार की चर्चा और समस्या पर उनके पास देने के लिए प्रचुर मात्रा में फंडा होता. फंडों के धनी इस बाबा के कई शिष्य हुए. इन शिष्यों में अग्रणी थे यथा नाम तथा गुण वाले जेलसीचंद सेठ. अन्य मनुष्यों की तरह जेलसीचंद को भी ये भ्रम था कि सिर्फ उनकी कमाई मेहनत की कमाई है, अन्य तो बिन परिश्रम ही धनार्जन करते हैं. जेलसीचंद अपने अच्छे गुणों से जितना खुश रहते उससे कई गुना दूसरों के गुणों से दुखी. सभी मनुष्य उन्हें दुर्गुणों से ग्रसित दिखते. उन्हें इस बात की चिंता हमेशा सताती कि उनके नौकर-चाकर और स्वजन उनके पैसों पर सुख-चैन की जिंदगी जी रहे हैं. सभी मनुष्य आलस को प्राप्त हो चुके हैं और फिर भी धन संग्रह में सभी मुझसे आगे हैं. मैं सर्वश्रेष्ठ और अन्य सभी दुर्गुणों से पीड़ित हैं. ऐसा सोचते हुए भी जेलसीचंद सभी मनुष्यों से ईर्ष्या करते.  सुखीचंद की अप्सरा सदृश प्रेमिका ने ईर्ष्या की अग्नि में घी डालने का काम किया था. ऐसी विरोधाभासी मनोभावना से ग्रसित जेलसीचंद को फंडा बाबा के सानिध्य में रहकर अतिशय सुख की प्राप्ति होना स्वाभाविक ही था.

फंडा बाबा अविराम फंडों से नित्य जेलसीचंद के ज्ञानचक्षु खोलने की कोशिश करते. एक दिन एक फंडा बाबा के मुख से निकला एक फंडा जो कुछ इस तरह था ‘सभी भगवान की संतान हैं सभी के व्यवहार भगवान ने निर्धारित कर रखे हैं फिर तुम क्यों व्यर्थ सुखीचंद से इर्ष्या करते हो. उसका आलसयुक्त राजसी व्यवहार और प्रचुर पैतृक धन, प्रभु की इच्छा और उसके परिवेश से मिलकर तैयार हुए हैं. तुम क्यों व्यर्थ ईर्ष्या करते हो’, जेलसीचंद ने इस फंडे की गाँठ बाँध ली. फिर क्या था जेलसीचंद में चमत्कारिक परिवर्तन आने लगे. अब वो किसी से भी ईर्ष्या नहीं करते.  सबी के साथ प्रेमपूर्वक रहने लगे.

कुछ दिनों के बाद जब फंडा बाबा की एक फंडासभा से जेलसीचंद निशब्द बिन किसी फंडे की आस लिए उठ खड़े हुए तो फंडाबाबा के ललाट पर चिंता का त्रिपुंड बन आया. कुछ ही babaपल बाद फंडा बाबा ने सन्देश भेज जेलसीचंद को अपने आश्रम बुला लिया. मनुष्यों के सुख-चैन और आलस के किसी भी प्रश्न का जेलसीचंद पर कोई असर नहीं हुआ. बाबा के सारे प्रश्नों को मुस्कुराते हुए प्रभु की इच्छा मान गए जेलसीचंद. बाबा ने आखिरी वार किया… उर्वसी सदृश सुखीचंद की प्रेमिका !

परमज्ञानी जेलसीचंद मुस्कुराते हुए झेल गए. चलने को हुए और एक बार पीछे मुड कर देखा… ‘बाबा आज मुझे एक और फंडा मिल गया. फंडा वाले भी फंड की खोज में हैं. इस जगत में चर अचर स्थावर जंगम जो भी प्राणी हैं सभी फंडामय प्रतीत होते हुए भी वास्तव में फंडमय हैं.’ फंडा बाबा ने जेलसीचंद के चरण पकड़ लिए. बोले: ‘बाबा आज से दशांश आपका बस आप फंडा देने का विचार त्याग दें…'. 

फंडाबाबा की गुरु-शिष्य परम्परा को जीवित रखते हुए कालांतर में जेलसीनन्द ही चीयरफुलानंद, च्रिफुलानंद जैसे नामों से प्रसिद्द हुए.

च्रिफुलानंद की जय !

~Abhishek Ojha~ [फंडा बाबा की गुरु-शिष्य परंपरा के (n-1)वें गुरु आप nवें हो सकते हैं Winking smile]

28 comments:

  1. हम धन्य हुए महाराज! फ़न्डे कुछ इस प्रकार क्लीयर हुए जैसे ज्ञानचक्षुओं पर से धूप का चश्मा हटाकर नज़र का चश्मा लगा लिया हो।

    ReplyDelete
  2. झकास बाबा है .एक दम हेंडसम .....

    ReplyDelete
  3. अप धन्य हो महाराज । हमारे ग्यान चक्षु तो भेजे से बाहर आने को आतुर हो गये हैं। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. हे ऋषिवर आपकी कथा फंडू है.
    बोलो फंडाबाबा की जै.
    फंडाबाबा को सादर प्रणाम!!!

    ReplyDelete
  5. जेलसीनन्द , चीयरफुलानंद, च्रिफुलानंद जैसे नये नामों को जानने का मौका मिला ... सब अंडे का फंडा है .धन्य हुए. हा हा हा आनंद आ गया पढ़कर

    ReplyDelete
  6. फंडा बाबा की जय। दर्शक ही बन ठीक हैं।

    ReplyDelete
  7. ऊर्वशी सदृष्य़ प्रेमिका का की मोह-माया से परे उठने पर फण्डत्व की प्राप्ति होती है। आदमी फण्ड धाम को सशरीर जा सकता है।

    n+1008 फण्डाचार्य का अमृत वचन

    ReplyDelete
  8. फंडा वाले भी फंड की खोज में हैं. इस जगत में चर अचर स्थावर जंगम जो भी प्राणी हैं सभी फंडामय प्रतीत होते हुए भी वास्तव में फंडमय हैं.’ फंडा बाबा ने जेलसीचंद के चरण पकड़ लिए. बोले: ‘बाबा आज से दशांश आपका बस आप फंडा देने का विचार त्याग दें…'.

    मना करने के बावजूद लाजवाब फ़ंडा दिया है जी.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. आप से कथा शिल्प की शिक्षा लेनी है गुरुदेव! आप कब दर्शन देंगे?
    दक्षिणा स्वरूप फंड नहीं फंडा मिलेगा। ये n और (n-1) को और समझा दीजिए। समझा कीजिए गुरुदेव!

    ReplyDelete
  10. अमेरिका की सर्दी ने तुम्हारे सारे फंडे क्लियर कर दिए लगते हैं।

    ReplyDelete
  11. महान देश के महान फ़ंडे हे जी, ऎसे महान बाबा को दुर से ही प्रणाम, धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  13. इस कथा को आगे भी बढ़ाइए ! कई फंडे मिलेंगे इसके लिए :)

    ReplyDelete
  14. चिर्फुला नन्द ??
    क्या चीज़ है यह ? :-(
    बाबा कुछ हम जैसों के लिए टोर्च से प्रकाश करो न प्लीज़
    जय हो !

    ReplyDelete
  15. ऐसा फंडा मिला कि जेलसीनन्द बन गए चियरफुलानंद...क्या बात है

    ReplyDelete
  16. ये गलत है.. तुम ऎसा नहीं कर सकते.. अब तुमसे तो ऎसी उम्मीद नहीं थी... grrrrr

    फ़ंडाबाबा का नाम लेने से पहले ’श्री श्री १००८’ लगाना मत भूलो ;)

    जय हो फ़ंडू बाबा की... (ए आर रहमान स्टाईल में ही समझ लो..)

    ReplyDelete
  17. अच्छा लिखा............................ज्ञान चक्षु खुल गया।

    ReplyDelete
  18. फंडा बाबा यह नाम अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  19. फंड और फंडा का पारस्परिक सम्बन्ध सचमुच काया और छाया का है...

    बहुत लाजवाब कथा सुनाई...

    ReplyDelete
  20. आपका क्या कहना है?
    जब कहने को कुछ शब्द न सूझ रहे हों तो वही कह देते हैं, "भैया, बाबा, सच में जीनियस हो।"
    आज ब्लॉग रोल में डाल लिया है ये ब्लॉग, अपडेट रहेंगे अब से।

    ReplyDelete
  21. गुरु गोविंद दोनों खड़े काके लागूं पांय ...

    ReplyDelete
  22. ऎसे महान बाबा को दुर से ही प्रणाम| धन्यवाद|

    ReplyDelete

  23. निसँदेह यह एक फँडू पोस्ट है ।
    सामान्य मनुष्य को नये नये फँडो में उलझाये रहो, फँडे की मारकेटिंग होते रहना ज़रूरी है ।
    हम प्रसन्न होते भये बच्चा, ईश्वर तेरे कपाल से लेकर गुद्दी तक इसी भाँति की बुद्धि से सँतृप्त रखे ।

    ReplyDelete
  24. kripya meri kavita padhe aur upyukt raay den..
    www.pradip13m.blospot.com

    ReplyDelete
  25. आज कल बाबा अफंडानंद कहाँ मिलते हैं? एक नागा बाबा थे, जिन की जन्मशताब्दी मनाई जा रही है।

    ReplyDelete